भारत की तरफ से अनुच्छेद 370 खत्म करने से तिलमिलाई पाकिस्तानी सेना ने कही ये बात

story-pakistan-army-called-it-a-sham-after-india-scrapped-article-370

जम्मू कश्मीर को दो अलग केन्द्र शासित प्रदेश में विभाजन करने के भारतीय संसद के दो तिहाई बहुमत से लिए गए फैसले, साथ ही संविधान में राज्य और राज्य के लोगों को विशेषाधिकार देनेवाले अनुच्छेद 370 और आर्टिकल 35ए खत्म करने को लेकर पाकिस्तान का लगातार विरोध जारी है।

वहीं, दूसरी तरफ पाकिस्तान की सेना ने सार्वजनिक तौर पर दोनों आर्टिकल को ‘पाखंड’ करार दिया है और कहा कि रावलपिंडी ने इसे कभी माना ही नहीं।

इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (पाकिस्तानी सेना की मीडिया यूनिट) की तरफ से 6 अगस्त को जारी बयान के मुताबिक, “भारत की तरफ से दशकों पहले जम्मू कश्मीर को कानूनी तौर पर आर्टिकल 370 और आर्टिकल 35ए के तहत कानूनी अमलीजामा पहनाने की बनावटी कोशिश को पाकिस्तान ने कभी ‘स्वीकार’ नहीं किया, जिसे भारत ने अब खुद ही खत्म कर दिया है।”

‘हिन्दुस्तान टाइम्स’ के पास बयान की वो कॉपी है, जिसे जम्मू कश्मीर पर भारत के फैसले के बाद रावलपिंडी में जनरल कमर जावेद बाजवा की अध्यक्षता में कॉर्प्स कमांडर्स कॉन्फ्रेंस की तरफ से बयान जारी किया गया।

भारत के राजनयिक प्रतिष्ठान पाकिस्तान की तरफ से एकतरफा भारत के साथ कई स्तरों पर संबंधों को रोकने को लेकर लिए गए फैसले से हैरान है, जो संयुक्त राष्ट्र में इस मामले को तूल देने पर लगा है, जैसा कि बयान में दावा किया गया है कि इस्लामाबाद ने अनुच्छेद 370 और 35 ए को इस्लामाबाद ने कभी नहीं माना था।

भारत सरकार के एक आधिकारिक सूत्र के मुताबिक, “अगर 370 और 35ए अगर फर्जी है तो फिर इस पर इस तरह की प्रतिक्रिया क्यों दी जा रही है। हमने देखा कि किस तरह से पाकिस्तान ने अपने देश के लोगों को जताने के लिए एकतरफ कार्रवाई की है, जो दशकों से कश्मीर की की रट लगा रखी है।”

LEAVE A REPLY