मोबाइल यूजर्स को अब कॉल रिसीव करने के भी देने होंगे पैसे, ये है नया एजेंडा

news aap tak

भारत में 95 प्रतिशत से ज्यादा मोबाइल फोन यूजर्स प्रीपेड सब्सक्राइबर्स हैं और टेलिकॉम कंपनियां इन्हें लुभाने के लिए लगातार नए-नए टैरिफ प्लान पेश कर रही हैं. टेलिकॉम कंपनियों की ओर से दी जाने वाली सुविधाओं में ‘फ्री इनकमिंग कॉल’ एक ऐसी सुविधा थी जो पूरी फ्री थी. लेकिन अब आपको इस फ्री सुविधा लोगों को पैसे देने होंगे.

लगातार बढ़ती प्रतिस्पर्धा के कारण एयरटेल, वोडाफोन, आइडिया ने पिछले दो सालों में अपने कॉल्स के साथ ही डेटा रेट्स में भी भारी कटौती की है. इसके बावजूद भी उनका यूजर बेस गिर गया और उन्हें भारी नुकसान उठाना पड़ा. अब इन कंपनियों ने यह निर्णय लिया है कि ग्राहकों को फ्री इनकमिंग की सुविधा नहीं मिलेगी और उन्हें इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए उन्हें रिचार्ज कराना होगा.

ये है नया नियम- ग्राहकों से पैसे कमाने के लिए टेलिकॉम कंपनियों ने हर महीने रिचार्ज कराना अनिवार्य कर दिया है. अगर वे ऐसा नहीं करेंगीं तो उनकी आउटगोइंग सुविधा बंद हो सकती है. एयरटेल ने इसी को ध्यान में रखते हुए हाल ही में  तीन प्लान पेश किए हैं जिसकी कीमत 35, 65 और 95 रुपये है. इन प्लान्स की वैधता 28 दिन की है. जिसके पूरे होने के बाद यदि कोई ग्राहक नया रिचार्ज नहीं करता है तो बैलेंस होने का बावजूद उसकी आउटगोइंग सेवा बंद कर दी जाएगी. यदि कुछ समय बाद भी रिचार्ज नहीं किया जाता है तो उस ग्राहक की इनकमिंग सेवा भी बंद कर दी जाएगी.

इन लोगों को होगा नुकसान- टेलिकॉम कंपनियों के इस फैसले से ग्रामीण क्षेत्र के लोग प्रभावित होंगे. इसके अलावा वे भी प्रभावित होंगे जो अपना फोन सिर्फ कॉल रिसीव करने के लिए इस्तेमाल करते हैं. उनके लिए मात्र 10 रुपये का रिचार्ज काफी होता है जिनमें 7 रुपये का टॉकटाइम मिलता है. हालांकि हर महीने का रिचार्ज उनके लिए अब भारी पड़ सकता है.

LEAVE A REPLY