कम रिचार्ज करवाते है तो, बंद हो सकता है आप का नंबर, जाने इन कंपनियों का फैसला

news aap tak

अगर आप एयरटेल, वोडाफोन या आइडिया का नंबर इस्तेमाल करते हैं और कम रिचार्ज कराते हैं तो आपके लिए बुरी ख़बर है क्योंकि आपका सिम कभी भी बंद हो सकता है. वोडाफोन आइडिया और भारती एयरटेल ने 25 करोड़ 2G मोबाइल कनेक्शन को बंद करने का प्लान बनाया है. कंपनियों ने यह फैसला प्रति ग्राहक औसत राजस्व (एआरपीयू) में आई कमी के कारण किया है.

फाइनेंशियल एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, एक रिपोर्ट के अनुसार 250 मिलियन सब्सक्राइबर्स एक महीने में 35 रुपये से भी कम का रिचार्ज कराते हैं. इसमें यह भी बताया गया है कि एयरटेल के पास ऐसे 100 मिलियन यूजर और वोडाफोन आइडिया के पास करीब 150 मिलियन यूजर हैं जो महीने भर में 35 रुपये से भी कम का रिचार्ज कराते हैं. इसलिए कंपनी ने इसे मिनिमम 35 रुपये का रिचार्ज कराने को अनिवार्य करने का ऐलान किया है. ( ये भी पढ़ेंः मोबाइल यूजर्स के लिए बुरी ख़बर, अब कॉल रिसीव करने पर भी देने होंगे पैसे )

फायदे को बढ़ाने का है प्लान

अभी कंपनियों इन यूजर्स से 10 रुपये का ARPU मिलता है. अगर मिनिमम रिचार्ज यही रहता है तो भारती एयरटेल को उनसे 100 रुपये का मंथली रेवेन्यू मिलेगा. उनका मानना है कि अगर इसमें से आधे यूजर भी नेटवर्क पर रुकते हैं और 35 रुपये वाला प्लान लेते हैं तो उन्हें एक महीने में 175 करोड़ रुपये की कमाई होगी.

मिनिमम 35 रुपये का रिचार्ज कराना अनिवार्य
ये सभी 250 मिलियन सब्सक्राइबर्स डुअल सिम यूजर हैं, जिसका मतलब ये हैं कि उनके पास दो मोबाइल कनेक्शन है और वे सबसे कम का रिचार्ज का कराते हैं जिससे इनकमिंग कॉल्स मिल सके. पहले यूजर्स 10 रुपये का टॉप-अप करा सकते थे. अगर प्लान खत्म हो जाता था तो वे आउटगोइंग कॉल नहीं कर पाते थे लेकिन उन्हें प्लान के वैलिडिटी तक फ्री इनकमिंग कॉल की सुविधा मिलती थी जो की लगभग 6 महीने की होती थी. अब एक महीने में 35 रुपये के रिचार्ज कराने को अनिवार्य कर के एयरटेल और वोडाफोन आइडिया ने यह परिणाम निकाला कि या तो यूजर ARPU चेन को बढ़ाएगा या फिर उस सिम का इस्तेमाल करने लगेगा जिसका वो प्राइमरी तौर पर इस्तेमाल कर रहा है. इस कदम से भारती एयरटेल के ARPU में सुधार देखी गई है और जुलाइ-सितंबर के क्वॉर्टर में यह 101 रुपये रहा वहीं वोडाफोन आइडिया में यह 88 रुपये रहा.

इसको लेकर भारत और दक्षिण एशिया के भारती एयरटेल के सीईओ और मैनेजिंग डायरेक्टर गोपाल विट्टल ने कहा कि उनके पास वायरलेस में 330 मिलियन कस्टमर्स हैं जिसमें से करीब 100 मिलियन कस्टमर्स बहुत कम ARPU वाले है जो कि डबल-डिजिट के सबसे निचले स्तर पर है. उन्होंने आगे कहा कि मिनिमम ARPU प्लान को बढ़ाने से हम कुछ ग्राहक खोएंगे लेकिन इससे 4G पर प्री-पेड और पोस्टपेड ग्राहकों की बढ़ोतरी होगी.

ऐसा करने की वजह?

टेलीकॉम कंपनियों ने कम रिचार्ज कराने वाले 2जी यूजर्स को इस लिए टार्गेट किया है, क्योंकि इनसे उन्हें कम आमदनी हो रही है. साथ ही, कंपनी अपने 2जी नेटवर्क को कम करना चाहती है, ताकि 4जी ग्राहकों की संख्‍या बढ़ाई जा सके

LEAVE A REPLY